logo

ONLINE ADMISSION SYSTEM

पुन: प्रवेश के लिए दिशा-निर्देश

1.    पुन: प्रवेश निम्नलिखित परिस्थितियों में अनुमन्य है-

        (अ)    ऐसे शिक्षार्थी जो कार्यक्रम की अधिकतम अवधि तक सम्पूर्ण / आंशिक रूप से पाठ्यक्रम को पूर्ण करने में असफल रहे हों।
        (ब)    ऐसे शिक्षार्थी जो कार्यक्रम की अधिकतम अवधि तक उसके पाठ्यक्रम में निहित प्रयोगात्मक प्रश्न-पत्रों में नियमानुसार उपस्थिति इत्यादि औपचारिकताओं को पूर्ण करने में असमर्थ रहे हों।

2.    वे शिक्षार्थी जिन्होंने कार्यक्रम के सभी वर्षो / सेमेस्टरों में पंजीकरण नहीं कराया है और कार्यक्रम की अधिकतम अवधि तक उसका सम्पूर्ण कार्यक्रम शुल्क जमा नहीं किया है, वे भी पुन: पंजीकरण हेतु अर्ह हैं। इस शर्त के साथ की उन्हें उस सत्र (जिस कार्यक्रम में वे पुन: प्रवेश ले रहे हैं) की वर्तमान शुल्क दरों के सापेक्ष 20 प्रतिशत शुल्क देना होगा।

3.    पुन: प्रवेश हेतु जमा शुल्क एक क्रमागत शैक्षणिक सत्र अथवा 2 क्रमागत सेमेस्टरों के लिए ही मान्य होगा।

4.    एक वर्ष अथवा दो सेमेस्टरों से अधिक, शिक्षार्थी विश्वविद्यालय की नामावली में नहीं होगा। जैसा कि सं0 3 में कहा गया है।

5.    एक वर्ष की यह अतिरिक्त अवधि कार्यक्रम के प्रारम्भिक पंजीकरण की अधिकतम अवधि के समाप्त होने के पश्चात् प्रारम्भ हुई मानी जायेगी।

6.    सफलतापूर्वक पूर्ण किए गये पाठ्यक्रम और अधिन्यास में विद्यार्थी द्वारा प्राप्त क्रेडिट पुन: मान्य अवधि में यथावत बने रहेंगे।

7.    यदि पाठ्यक्रम में कोई परिवर्तन नहीं हुआ है तो पुन: प्रवेश की स्थिति में किसी पाठ्य सामग्री की आपूर्ति नहीं होगी। जिन पाठ्यक्रमों में परिवर्तन हुआ होगा उनके लिए उन्हें पाठ्य सामग्री क्रय करनी होगी।

8.    शिक्षार्थी को पूर्ण पाठ्यक्रमों में पुन: प्रवेश की अनुमति तब तक ही होगी जब तक कि विश्वविद्यालय द्वारा उन पूर्व पाठ्यक्रमों की परीक्षाएँ संचालित की जा रही हों।

9.    जिन कार्यक्रमों में प्रायोगिक कार्य कराया जाता है उनके शुल्क के मानक, सम्बन्धित विद्याशाखा एवं विद्या परिषद द्वारा निर्धारित किए गये हैं।

10.    विश्वविद्यालय द्वारा निर्धारित-प्रवेश तथा पुन: प्रवेश सम्बन्धी अन्य नियम पूर्ववत् रहेंगे।

11.    पुन: प्रवेश के साथ छूटे हुए सत्र का पुन: पंजीयन शुल्क (यदि कोई हो) का ई-चालान 'वित्त अधिकारी, उ0प्र0 राजर्षि टण्डन मुक्त विश्वविद्यालय, इलाहाबाद' के पक्ष में देय होगा। शिक्षार्थी को अपनी नामांकन संख्या, नाम, कार्यक्रम कोड तथा ई-चालान नम्बर पुन: प्रवेश फार्म पर अंकित करना अनिवार्य होगा।

 

नोट : अधिकतम अवधि समाप्त होने के पश्चात् एक वर्ष के लिए मान्य। अधिकतम अवधि समाप्त होने के पश्चात् यदि शिक्षार्थी पुन: प्रवेश हेतु आवेदन नहीं करता है तो उसे उसके बाद इसका लाभ प्रदान नहीं किया जाएगा।

** समय-समय पर विश्वविद्यालय द्वारा संशोधन के अधीन।

 

Application for re-admission/re-registration in all programme


NOTE:- This is not Back paper Form